To subscribe By E mail

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile

Wednesday, March 14, 2012

निरंतर कह रहा .......: जितना हँस सकूँ,उतना हँस लूँ

निरंतर कह रहा .......: जितना हँस सकूँ,उतना हँस लूँ: अब थकने लगा हूँ ज़िन्दगी से डरने लगा हूँ क्या होगा आने वाले बरसों में डर से सहमने लगा हूँ क्यों बूढा होता इंसान निरंतर सोचता हूँ क्यों लौट...

No comments: