To subscribe By E mail

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile

Monday, March 12, 2012

निरंतर कह रहा .......: सब्र के कपडे पहन ले ,मन में सहनशीलता ओढ़ लें

निरंतर कह रहा .......: सब्र के कपडे पहन ले ,मन में सहनशीलता ओढ़ लें: तुम कहो मैं सुनूँ जैसा चाहो वैसा करूँ नहीं मानूं तो तुम रूठ जाओ फिर मैं तुम्हें मनाऊँ मैं कहूं तुम सुनो जो चाहूँ वो करो नहीं करो...

No comments: