To subscribe By E mail

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile

Friday, March 2, 2012

निरंतर कह रहा .......: अपेक्षाओं के समुद्र में

निरंतर कह रहा .......: अपेक्षाओं के समुद्र में: अपेक्षाओं के समुद्र में गोता लगाना छोड़ दो जितनी गहरायी में जाओगे गंद साथ लाओगे अपेक्षाओं की थाह फिर भी कभी ना पाओगे मन की व्यथ...

No comments: