To subscribe By E mail

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile

Saturday, February 11, 2012

निरंतर कह रहा .......: चाहे मंदिर जाओ या मस्जिद जाओ

निरंतर कह रहा .......: चाहे मंदिर जाओ या मस्जिद जाओ: ना कर्मों की सज़ा होती ना ही कोई पुरस्कार होता केवल परिणाम होता सपनों की दुनिया से बाहर आ जाओ पुरस्कार की चाहत में कुछ ना करो...

No comments: