To subscribe By E mail

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile

Friday, February 24, 2012

निरंतर कह रहा .......: क्षणिकाएं -15

निरंतर कह रहा .......: क्षणिकाएं -15: रोना हो रोना हो इंतज़ार करना हो ख्वाब देखना हो जागना हो परेशाँ रहना हो मोहब्बत कर लो इश्वर इश्वर संतुष्ट होता तो स्रष्टि की रचना नहीं करता...

No comments: