To subscribe By E mail

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile

Wednesday, May 2, 2012

निरंतर कह रहा .......: झूठ का आवरण

निरंतर कह रहा .......: झूठ का आवरण: किसी ने तुम्हारे प्रशंसा में दो मीठे शब्द बोल दिए , तुम पचा नहीं पाए फूल कर कुप्पा गए बिना यह सोचे समझे कहने वाले का मंतव्य क्या था क्या व...

No comments: