To subscribe By E mail

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile

Saturday, May 12, 2012

उस से नाम पूछा ,उसने बता दिया

उस से नाम पूछा
उसने बता दिया
माँ,बाप का नाम पूछा
चुप रहा
जाती, धर्म पूछा
चुप रहा
गाँव,शहर पूछा
चुप रहा
फिर धीरे से बोला
आज तक किसी से
कहा नहीं
आज तुमको कहता  हूँ
नफरत किसी से
रखता नहीं
धरती को माँ,
देश को पिता,
इंसानियत को धर्म
मानता हूँ
अनाथ होते हुए भी
खुद को अनाथ नहीं
मानता हूँ
इंसान की जात हूँ
सम्मान से जीता हूँ
निरंतर यही पैगाम
देता हूँ
20-01-2001

No comments: