To subscribe By E mail

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile

Tuesday, May 29, 2012

निरंतर कह रहा .......: लक्ष्य की और

निरंतर कह रहा .......: लक्ष्य की और: कोई हाथ पकड़ता है कोई पैर खींचता है कोई बातों से विचलित करने की कोशिश तो कोई अवरोध खड़े करता हैं चारों तरफ से मुझे पथ से ...

No comments: