To subscribe By E mail

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile

Sunday, May 6, 2012

निरंतर कह रहा .......: कुंठा की अभिव्यक्ती

निरंतर कह रहा .......: कुंठा की अभिव्यक्ती: प्रेम , प्यार , मोहब्बत तुम कहते हो खामोश रहूँ  आंसू ना बहाऊँ भावनाओं को खुले आम ना दर्शाऊँ तो , क्या ग़मों को पीता रहूँ उनका...

No comments: