To subscribe By E mail

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile

Friday, April 13, 2012

निरंतर कह रहा .......: ज़िन्दगी ने हमें सताया बहुत

निरंतर कह रहा .......: ज़िन्दगी ने हमें सताया बहुत: ज़िन्दगी ने हमें सताया बहुत हँसते हुए को रुलाया बहुत हमने भी उसे छकाया बहुत वो गिराने की कोशिश करती रही   हमें लंगडी लगाती रही हमने भी हा...

No comments: