To subscribe By E mail

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile

Friday, April 20, 2012

निरंतर कह रहा .......: मन की कशमकश

निरंतर कह रहा .......: मन की कशमकश: मैं सोचता रहता हूँ मन की कशमकश कह नहीं पाता तुम भी सोचती रहती हो कह नहीं पाती हो हमारी खामोशी  बीच की  दूरियां बढ़ा रही है ना कहने की मजबू...

No comments: