To subscribe By E mail

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile

Sunday, June 3, 2012

निरंतर कह रहा .......: ये कैसी ज़िन्दगी?

निरंतर कह रहा .......: ये कैसी ज़िन्दगी?: ये कैसी ज़िन्दगी? जिसमें रंग नहीं खुशी नहीं  गले मिल कर हँसना नहीं मिलजुल कर रहना नहीं कल क्या होगा? कल क्या करना है? ...

No comments: